एम. आर. श्रीनिवासन  

एम. आर. श्रीनिवासन
पूरा नाम मलुर रामासामी श्रीनिवासन
जन्म 5 जनवरी, 1930
जन्म भूमि बैंगलोर
कर्म भूमि भारत
पुरस्कार-उपाधि पद्म श्री, 1984

पद्म भूषण, 1990
पद्म विभूषण, 2015

प्रसिद्धि परमाणु वैज्ञानिक व इंजीनियर
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी सन 1967 को एम. आर. श्रीनिवासन को मद्रास परमाणू ऊर्जा परियोजना के मुख्य निर्माण अभियंता के रूप में कार्य करने का अवसर प्राप्त हुआ। 1973 में एम. आर. श्रीनिवासन ने पावर प्रोजेक्टस के डिप्टी डायरेक्टार का पद भी संभाला।
अद्यतन‎
मलुर रामासामी श्रीनिवासन (अंग्रेज़ी: Malur Ramasamy Srinivasan, जन्म- 5 जनवरी, 1930) भारत के परमाणु वैज्ञानिक व इंजीनियर हैं। सन 1987 में वे भारत के परमाणु ऊर्जा आयोग के अध्यक्ष नियुक्त किये गये थे। भारत के नाभिकीय ऊर्जा कार्यक्रम के विकास में उनका महत्वपूर्ण योगदान है। दाबित भारी जल रिएक्टर के विकास में भी एम. आर. श्रीनिवासन की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। साल 2015 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था।

परिचय

एम. आर. श्रीनिवासन का पूरा नाम मलुर रामासामी श्रीनिवासन है। उनका जन्म बैंगलोर में 5 जनवरी, 1930 को हुआ था। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा मैसूर इंटरमीडिएट कॉलेज में विज्ञान विषय के साथ पूरी की। वहाँ अध्यायन के लिए उन्होंने संस्कृत और अंग्रेज़ी भाषा को चुना था। वह विश्वेश्वेरैया द्वारा नव आरंभ इंजिनियरिंग कॉलेज में बाद में शामिल हुए।[1]

सन 1950 में यूवीसीई बैंगलोर से मैकनिकल इंजानियीरंग में अपने पाठयाक्रम के बाद एम. आर.श्रीनिवासन ने एमसी से फलूइड मैकेनिक्सा, हीट ट्रॉसफर और एप्लाइड गणित और गैस टर्बाइन दर्शनशास्त्र में अपनी पोस्ट ग्रेजुऐशन को पूर्ण किया। इसके लिए उन्हें कनाडा द्वारा डिग्री प्रदान की गई थी।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 एम. आर. श्रीनिवासन की जीवनी (हिंदी) jivani.org। अभिगमन तिथि: 03 मार्च, 2022।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=एम._आर._श्रीनिवासन&oldid=674242" से लिया गया