गोपी कुमार पोदिला  

गोपी कुमार पोदिला (अंग्रेज़ी: Gopi Kumar Podila, जन्म- 14 सितंबर, 1957; मृत्यु- 12 फ़रवरी, 2010) प्रसिद्ध विद्वान, भारतीय अमेरिकी वैज्ञानिक तथा अलाबामा विश्वविद्यालय में संकाय सदस्य थे। अपनी अनुसंधान रुचि के रूप में उन्होंने जैव ऊर्जा, कार्यात्मक जीनोमिक्स संयंत्र, आण्विक पादप जैविकी और जैव तकनिकी के लिए अभियान्त्रिकी वृक्ष जैव-ईंधन को सूचीबद्ध किया था।

  • अपने वैज्ञानिक कार्यों के अंतर्गत गोपी कुमार पोदिला ने विशेष रूप से उन गुणसूत्रों का अध्ययन किया जो वृक्षों में वृद्धि को विनियमित करते हैं, विशेष रूप से चिनार और अस्पन वृक्ष में।
  • उन्होंने मक्का के वैकल्पिक स्रोतों के लिए तेज़ी से बढ़ते वृक्षों और घासों की इथेनॉल उत्पादन के लिए संभावित उपयोग के रूप में पक्ष समर्थकता की।
  • वे अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं में संकाय के समन्वयक भी थे, जिसने कवक के गुणसूत्र का उद्वाचन किया।
  • गोपी कुमार पोदिला ने आचार्य नागार्जुन विश्वविद्यालय, भारत से विज्ञान स्नातक की डिग्री प्राप्त की थी। लुइसियाना विश्वविद्यालय से उन्होंने 1983 में परास्नातक और 1987 में इण्डियाना राज्य विश्वविद्यालय से पीएचडी की डिग्री प्राप्त की। अलाबामा विश्वविद्यालय से जुड़ने से पहले वे 1990-2002 तक मिशिगन तकनीकी विश्वविद्यालय में भी कार्यरत रहे थे।
  • 12 फ़रवरी, 2010 को अमी बिशप, जो गोपी कुमार पोदिला के विभाग की संकाय सदस्य थीं, ने स्टाफ मीटिंग के दौरान कथित रूप से एक पिस्तौल निकाली और छः लोगों को गोली मार दी। गोपी कुमार पोदिला और दो अन्य संकाय सदस्य मारे गए। बिशप को भवन से बाहर हिरासत में ले लिया गया और उस पर पहले दर्जे की हत्या का आरोप लगा।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=गोपी_कुमार_पोदिला&oldid=663837" से लिया गया