पी. एस. वीरराघवन  

पी. एस. वीरराघवन
पूरा नाम पी. एस. वीरराघवन
जन्म 24 दिसम्बर, 1948
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम
विद्यालय भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), मद्रास
पुरस्कार-उपाधि वासविक पुरस्कार (1997)
प्रसिद्धि अंतरिक्ष वैज्ञानिक और रॉकेट प्रौद्योगिकीविद्
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी आईआईएसयू के निदेशक के रूप में पी. एस. वीरराघवन ने प्रक्षेपण वाहनों और अंतरिक्ष यान के लिए जड़त्वीय प्रणालियों के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है, जो कि उनके समकक्ष हैं।
अद्यतन‎
पी. एस. वीरराघवन (अंग्रेज़ी: Parivakkam Subramaniam Veeraraghavan, जन्म- 24 दिसम्बर, 1948) भारत के एक प्रसिद्ध अंतरिक्ष वैज्ञानिक और रॉकेट प्रौद्योगिकीविद् हैं। उन्होंने विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी), तिरुवनंतपुरम के निदेशक और इसरो में जड़त्वीय प्रणाली इकाई (आईआईएसयू) के निदेशक के रूप में कार्य किया है। पी. एस. वीरराघवन ने मुख्य रूप से लॉन्च वाहनों के एकीकरण के क्षेत्र में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में उपलब्धियां हासिल की हैं। उनका भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन में चार दशकों से अधिक की अवधि में एक लंबा और शानदार कॅरियर रहा है। वह एयरोनॉटिकल सोसाइटी ऑफ इंडिया सहित कई पेशेवर निकायों में भी साथी हैं।

शिक्षा

पी. एस. वीरराघवन ने कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, गिंडी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक होने के बाद, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), मद्रास से मद्रास विश्वविद्यालय में प्रथम रैंक और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में एम. टेक हासिल करने के लिए स्वर्ण पदक के साथ वीएसएससी (तत्कालीन एसएसटीसी) में प्रवेश लिया सन 1971 में।[1]

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 पूर्व निदेशक (हिंदी) vssc.gov.in। अभिगमन तिथि: 25 दिसम्बर, 2021।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पी._एस._वीरराघवन&oldid=671531" से लिया गया