संदीप कुमार बसु  

संदीप कुमार बसु
पूरा नाम संदीप कुमार बसु
जन्म 1944
जन्म भूमि कोलकता, पश्चिम बंगाल
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र अणु विज्ञान
पुरस्कार-उपाधि गोयल पुरस्कार, 2003

पद्म श्री, 2001
रैनबैक्सी चिकित्सा विज्ञान पुरस्कार
फिक्की लाइफ अवॉर्ड

प्रसिद्धि आणविक जीव विज्ञानी
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी संदीप कुमार बसु 1991 में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ इम्यूनोलॉजी, नई दिल्ली के निदेशक बने। वहां पर वह 2005 तक कार्यरत रहे।
अद्यतन‎
संदीप कुमार बसु (अंग्रेज़ी: Sandip Kumar Basu, 1944) भारतीय आणविक जीव विज्ञानी और नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज के जे.सी. बोस चेयर के धारक हैं, जिन्हें लीशमैनियासिस, तपेदिक, वायरल संक्रमण, बहुऔषध प्रतिरोधी कैंसर और धमनीकाठिन्य के उपचार प्रोटोकॉल में नवाचारों का श्रेय दिया जाता है। उन्हें 2001 में भारत सरकार द्वारा चौथे सर्वोच्च भारतीय नागरिक पुरस्कार पद्म श्री से सम्मानित किया गया था।

परिचय

संदीप कुमार बसु का जन्म भारत के पश्चिम बंगाल के कोलकता में सन 1944 को हुआ। उन्होंने सन 1962 में प्रेसीडेंसी कॉलेज, कलकत्ता से स्त्रातक की उपाधि प्राप्त की। 1964 में उन्होंने जीव विज्ञान में यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ साइंस, कलकत्ता से मास्टार की उपाधि प्राप्त की। सन 1968 में माइक्रोबियल चयापचय का विनियमन पर कलकत्ता विश्वविद्यालय से पीएचडी पूर्ण की। वह अपनी पोस्ट डॉक्टरल रिसर्च के लिए यूएसए के केएसी स्कूल ऑफ मेडिसिन लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय, इरविन स्कूल ऑफ मेडिसिन सार्वजनिक स्वास्थ अनूसंधान संस्थान, न्यूयॉर्क में और माइकल रीझ अस्पताल शिकागो में शामिल हुए।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=संदीप_कुमार_बसु&oldid=672335" से लिया गया