रासलीला, मणिपुर  

रासलीला मणिपुरी शास्त्रीय नृत्य का प्रतीक है। इसमें राधा और कृष्ण के अलौकिक प्रेम के साथ-साथ गोपियों के उदात्त और पारलौकिक प्रेम और प्रभु की भक्ति को दर्शाया जाता है। यह आमतौर पर मंदिर के सामने किया जाता है और दर्शक भक्ति की गहराई में डूबकर इसे देखते हैं। रास का प्रदर्शन बसंत पूर्णिमा, शरद पूर्णिमा और कार्तिक पूर्णिमा की रात में इम्फाल स्थित श्री श्री गोविंदजी के मंदिर में किया जाता है और बाद में इसका प्रदर्शन स्थानीय मंदिरों में किया जाता है।

नृत्य शैली

रचना के अनुसार इसका प्रदर्शन एकल, युगल और समूह में किया जा सकता है। नृत्य की इस विशिष्ट शैली में सूक्ष्मता, नवीनता और आकर्षण है। नर्तकों की वेशभूषा का कलात्मक सौन्दर्य दर्शकों को अभिभूत कर देता है। मणिपुरी रास एक नृत्य नाटिका उत्सव है जो श्रीकृष्ण की लीलाओं पर आधारित है। रासलीला राजर्षि भाग्यचंद्र (1777-1891 ई.) की व्यापक दृष्टि की उत्पत्ति है।[1]

रासलीला में वृंदावन की गोपियों के साथ श्रीकृष्ण के दिव्य प्रेम की कहानी प्रदर्शित की गई है। रासलीला का यह त्योहार मुख्य रूप से श्री श्री गोविंदजी मंदिर, इंफाल में मनाया जाता है। यह राधा और बृंदावन की अन्य गोपियों के साथ भगवान कृष्ण का नृत्य उत्सव है। यह श्रीकृष्ण के दिव्य प्रेम के बारे में नृत्य नाटिका (लीला) है जो मणिपुरी वैष्णव की जीवन शैली से अविभाज्य रूप से जुड़ी हुई है। भक्ति योग में इस त्योहार का बहुत महत्व है क्योंकि यह राधा और कृष्ण के लिए अन्य गोपियों के उदात्त प्रेम को प्रकट करता है। इस त्योहार के अनेक नृत्य मणिपुरी शास्त्रीय नृत्य के रूप में संगीत प्रेमियों के बीच प्रसिद्ध है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 मणिपुर के पर्व–त्योहार (हिंदी) apnimaati.com। अभिगमन तिथि: 28 सितम्बर, 2021।
  2. मणिपुर का रास नृत्य (हिंदी) hindi.gktoday.in। अभिगमन तिथि: 02 अक्टूबर, 2021।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=रासलीला,_मणिपुर&oldid=668490" से लिया गया