मोड़ बाँधना  

मोड़ बाँधना

विवाह के दिन सुहागिन स्त्रियाँ वर को नहला-धुला कर सुसज्जित कर कुल देवता के समक्ष चौकी पर बैठाकर उसकी पाग पर मोड़ (एक मुकुट) बांधती है। राजस्थान में इस रस्म को ही 'मोड़ बाँधना' कहा जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=मोड़_बाँधना&oldid=663950" से लिया गया