धारी संस्कार  

धारी संस्कार सहरिया जनजाति का मृत्यु से संबंधित संस्कार है।

  • यह संस्कार मृतक की मृत्यु के तीसरे दिन किया जाता है, जिसमें एक कुण्डे के नीचे दीपक जलाया जाता है जहाँ किसी जानवर का पद चिह्न बनता है। इससे यह माना जाता है कि मृत व्यक्ति ने उसी रूप में जन्म लिया है जिसका पद चिह्न कुण्डे के नीचे बना है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=धारी_संस्कार&oldid=663935" से लिया गया