शाक्य गणराज्य  

शाक्य गणराज्य बुद्ध काल में तथा उसके पूर्व, उत्तर प्रदेश के पूर्वोत्तर भाग तथा नेपाल की तराई के भूभाग में स्थित था। कपिलवस्तु यहां की राजधानी थी।[1]

  • गौतम बुद्ध के पिता शुद्धोदन शाक्य गणराज्य के गणमुख्य थे।
  • शाक्य देश के संबंध से ही शुद्धोदन का वंश 'शाक्य' नाम से प्रसिद्ध था और बुद्ध को 'शाक्यसिंह' कहा जाता था।
  • कहा जाता है कि 'शाक' या सागौन के वृक्षों के आधिक्य के कारण इस देश का अभिधान शाक्य हुआ था-
'शाकवृक्षप्रतिच्छन्नं वासं यस्माच्च चक्रिरे, तस्मादिक्ष्वाकुवंशास्तेभुवि शाक्या इति स्मृताः।'[2]
  • 'भद्दसाल' जातक से सूचित होता है कि शाक्य प्रदेश कोसल राज्य के अधीन था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 894 |
  2. अश्वघोष कृत 'सौंदरानन्द', 1,24

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=शाक्य_गणराज्य&oldid=501133" से लिया गया