थेरगाथा  

  • बौद्ध साहित्य के ये दो प्रसिद्ध ग्रंथ हैं।
  • थेरगाथा में उन बौद्ध-भिक्षुओं की उपलब्धियों का वर्णन है जिन्होंने परमपद प्राप्त किया।
  • इसमें बौद्ध संघ का सुंदर चित्रण मिलता है।
  • संघ में दीनों की कुटियों से निकले साधारण लोग भी थे और कपिलवस्तु, वैशाली, श्राबस्ती, राजगृह आदि के राजभवनों से निकले संपन्न लोग भी। परंतु संघ में वे सब समान थे।
  • धन, बल और पद का कोई भेदभाव न था।
  • वे सब तथागत की शरण में आकर आध्यात्मिक समता को प्राप्त हो चुके थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=थेरगाथा&oldid=469971" से लिया गया