सौरमण्डल  

सौरमण्डल
Solar System

ब्रह्माण्ड में वैसे तो कई सौरमण्डल है, लेकिन हमारा सौरमण्डल / सौर परिवार ( Solar System ) सभी से अलग है, जिसका आकार एक तश्तरी जैसा है। हमारे सौरमण्डल में सूर्य और वे सभी खगोलीय पिंड जो सूर्य के चारों ओर चक्कर लगाते हैं, सम्मलित हैं, जो एक दूसरे से गुरुत्वाकर्षण बल द्वारा बंधे हैं। कॉपरनिकस ने सबसे पहले यह सिद्धांत दिया था कि सभी ग्रह सूर्य के चारों ओर घूमते हैं। सौरमण्डल में सूर्य का आकार सब से बड़ा है जिसका प्रभुत्व है, क्योंकि सौरमण्डल निकाय के द्रव्य का लगभग 99.999 द्रव्य सूर्य में निहित है। सौरमण्डल के समस्त ऊर्जा का स्रोत भी सूर्य ही है। सौरमण्डल के केन्द्र में सूर्य है तथा सबसे बाहरी सीमा पर नेप्च्युन ग्रह है। नेपच्युन के परे प्लूटो जैसे बौने ग्रहो के अलावा धूमकेतु भी आते हैं।

सौरमण्डल एक नज़र में
ग्रहों के नाम भूमध्यरेखीय व्यास (कि.मी.) ग्रहों का द्रव्यमान (कि.मी.) परिभ्रमण समय अपने अक्ष पर परिक्रमण समय सूर्य के चारों ओर उपग्रहों की संख्या सूर्य से दूरी (कि.मी.)
बुध 4,878 57910 58.6 दिन 88 दिन 0 2439
शुक्र 12,102 108200 243 दिन 224.7 दिन 0 6052
पृथ्वी 12,756-12,714 149600 23.9 घंटे 365.26 दिन 1 6378
मंगल 6,787 227940 24.6 घंटे 687 दिन 2 3397
बृहस्पति 1,42,800 1.90e27 9.9 घंटे 11.9 वर्ष 28 71492
शनि 1,20,500 1426940 10.3 घंटे 29.5 वर्ष 30 60268
वरुण (यूरेनस) 51,400 25559 16.2 घंटे 84.0 वर्ष 21 2870990
अरुण (नेप्च्यून) 48,600 1.02e26 18.5 घंटे 164.8 घंटे 8 4497070
यम (प्लूटो) [1] 3,000 1160 6 दिन और 9.3 घंटे 248.6 वर्ष 1 5913520

सूर्य (Sun)

सूर्य सौरमण्डल का प्रधान है और इसके केंद्र में स्थित एक तारा है। सूर्य का व्यास 13 लाख 92 हज़ार किलोमीटर है, जो पृथ्वी के व्यास का लगभग 110 गुना है। सूर्य पृथ्वी से 13 लाख गुना बड़ा है, और पृथ्वी को सूर्यताप का 2 अरब वाँ भाग मिलता है। पृथ्वी से सूर्य की दूरी 149 लाख कि.मी है. सूर्य प्रकाश को पृथ्वी में आने में 8 मिनिट 18 सेकंड लगते हैं। सूर्य से दिखाई देने वाली सतह को "प्रकाश मंडल" कहते है. सूर्य कि सतह का तापमान 6000 डिग्री सेल्सिअस होता है. इसकी आकर्षण शक्ति पृथ्वी से 28 गुना ज़्यादा है। परिमंडल (Corona) सूर्य ग्रहण के समय दिखाई देने वाली उपरी सतह है.. इसे सूर्य मुकुट भी कहते हैं।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 24 अगस्त, 2006 से ग्रह का दर्जा समाप्त
  2. पाताल का देवता और मौत का नाविक (हिन्दी) (पी.एच.पी) अंतरिक्ष। अभिगमन तिथि: 7 फ़रवरी, 2011।
  3. सूरज के बौने बेटे : क्षुद्रग्रह (हिन्दी) (पी.एच.पी) सौरमंडल। अभिगमन तिथि: 18 फ़रवरी, 2011

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=सौरमण्डल&oldid=564978" से लिया गया