नवतारा  

नवतारा अथवा नोवा, (Nova) उस तारे को कहते हैं जो एकाएक चमक उठता है और पुन: धीरे-धीरे अपनी पहले जैसी धूमिल अथवा अदृश्य दशा में पहुँच जाता है। ऐसे तारे को कभी कभी 'अस्थायी तारा' भी कहते हैं।

नवतारा

नवतारे की विशेषता

नवतारे की चमक बड़ी तेज़ीसे बढ़ती है, यहाँ तक कि दो तीन दिन में अथवा इससे भी कम समय में कई हजार गुनी बढ़ जाती है, परंतु चमक के घटने में काफ़ी समय लगता है। परमाधिक चमक की अवस्था प्राप्त हो जाने पर तुरंत चमक का घटना प्रारंभ हो जाता है। आरंभ में चमक बड़ी तेज़ीसे घटती है, परंतु कुछ समय बाद चमक के घटने की गति मंद पड़ जाती है। चमक के घटते समय चमक के उतार चढ़ाव भी होता रहता है। तारे को अपनी पूर्वस्थिति प्राप्त करने में साधारणत: 10 से 20 वर्ष तक लगते हैं।

अध्ययन

नवतारे के स्पेक्ट्रम अध्ययन से विदित होता है कि चमक बढ़ने पर तारा ऐसी गैसों में आच्छादित हो जाता है जिनका वेग अत्यधिक होता है। तारे के चारों ओर फैलती हुई गैसों के कारण ग्रहीय नीहारिका के समान बिंब दिखाई पड़ता है, जो कई वर्षों तक बढ़ता रहता है और फिर मिट जाता है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि नवतारे को आच्छादित करने वाली गैसें तारे के अंदर होने वाले विस्फोट से उत्पन्न होती है।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संदर्भ ग्रंथ: एल. कैंपबेल ऐंड एल. जक्किया : दि स्टोरी ऑव वेरिएबल स्टार्स (1841)।

बाहरी कड़ियाँ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=नवतारा&oldid=657434" से लिया गया