प्रजापात्य विवाह  

प्रजापात्य विवाह अर्थात् कन्या की सहमति के बिना उसका विवाह अभिजात्य वर्ग के वर से कर देना।

  • इस विवाह में पिता वर तथा वधु को ‘तुम दोनों धर्म का साथ-साथ आचरण करो’ आदेश देकर कन्या दान करता था।
  • इस प्रकार का संबंध नवदम्पति संतान उत्पन्न करने और उसका पालन-पोषण करने के लिये करते थे।
  • पति, पत्नी को यह वचन देता था कि वह पत्नी के जीते जी गृहस्थ रहेगा; संन्न्यासी नहीं बनेगा, दूसरा विवाह नहीें करेगा आदि।
  • प्रजापात्य विवाह से पति और पत्नी के अधिकार समान रूप से सुरक्षित हो जाते थे। ऐसे विवाह समाज की उन्नत अवस्था में ही होते थे।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=प्रजापात्य_विवाह&oldid=612853" से लिया गया