विलिंगी सहोदरज विवाह  

विलिंगी सहोदरज विवाह या 'असामानांतर चचेरा विवाह' (अंग्रेज़ी: Corss-cousin Marriage) विषमलिंगीय सहोदरजों की संतानों (या ममेरे-फुफेरे भाई-बहन) के बीच होने वाले विवाह को कहा जाता है।

  • कुछ समाजों में ऐसे विवाह अनिवार्य होते हैं तथा कुछ में इन्हें वरीयता दी जाती है।
  • बहन के लड़के और भाई की लड़की के बीच विवाह मातृपक्षीय विलिंग सहोदरज विवाह कहलाता है।
  • भाई का लड़का तथा बहन की लड़की के बीच विवाह 'पितृपक्षीय विलिंग सहोदरज विवाह' कहा जाता है।
  • संसार की अधिकतर जनजातियों में इस प्रकार के विवाह पाये जाते हैं। दक्षिण भारत की कुछ जनजातियों में भी इस प्रकार के विवाह पाये जाते हैं।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. असामानांतर चचेरा विवाह (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 22 मई, 2014।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=विलिंगी_सहोदरज_विवाह&oldid=491613" से लिया गया