प्रथम और द्वितीय विश्व हिन्दी सम्मेलन: उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ -मधुकरराव चौधरी  

यह लेख स्वतंत्र लेखन श्रेणी का लेख है। इस लेख में प्रयुक्त सामग्री, जैसे कि तथ्य, आँकड़े, विचार, चित्र आदि का, संपूर्ण उत्तरदायित्व इस लेख के लेखक/लेखकों का है भारतकोश का नहीं।
{{#css:
  1. bodyContent {width: 97%; color:#333333; background-color: #fef5f6; padding:10px; padding-top:none; padding-right:none; border: thin solid #ffa6a6; margin-top:10px;}

hr { background-color: #f44f4f; margin-top:10px; margin-bottom:10px;} }}

लेखक- मधुकरराव चौधरी

तृतीय विश्व हिन्दी सम्मेलन के महान् अवसर पर इससे पूर्व आयोजित उद्देश्य और उपलब्धियों के बारे में विचार करने में हमें गौरव का अनुभव हो रहा है। हिन्दी को विश्वभाषा बनाने की प्रक्रिया को बल देना इन सम्मेलनों का मुख्य उद्देश्य रहा है। इसी दृष्टि से राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा ने प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन के आयोजन का दायित्व लिया था। राष्ट्रभाषा प्रचार समिति वह संस्था है, जिसे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने हिन्दीतर प्रदेशों में हिन्दी प्रचार करने के निमित्त 1936 में स्थापित किया था। यह समिति अपने को धन्य मानती है कि इसकी पहली समिति में पूज्य बापू के अतिरिक्त देशरत्न डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, पं. जवाहरलाल नेहरू, राजर्षि पुरुषोत्तमदास टंडन, आचार्य नरेन्द्र देव, काका कालेलकर, शंकरराव देव, माखनलाल चतुर्वेदी, वियोगी हरि, सेठ जमनालाल बजाज जैसे प्रमुख राष्ट्र नेता, हिन्दी-विद्वान् और हिन्दी-सेवी थे। यह समिति हिन्दी प्रचार के साथ-साथ राष्ट्रीय भावनाओं को उद्बुद्ध करने और समस्त भारतीयों के हृदय में एकता का भाव अंकुरित करने के उद्देश्य से स्थापित की गई थी। इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर ‘एक हृदय हो भारत जननी’ को इससे अपना उद्घोष वाक्य बनाया। आज यह समिति न केवल भारत में हिन्दी का प्रचार करने में लगी है, बल्कि भारत से बाहर भी विभिन्न देशों में हिन्दी प्रचार और प्रसार में पूरा योगदान दे रही है।

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद हिन्दी ने अनेक बाधाओं के होते हुए भी विभिन्न कार्यक्षेत्रों में काफ़ी प्रगति की है। राजभाषा के रूप में तथा विभिन्न विषयों की शिक्षा के माध्यम के रूप में चाहे सीमित रूप में ही सही किन्तु उत्तरोत्तर प्रयोग के कारण हिन्दी के शब्द भंडार में संवर्धन होने लगा और उसमें समस्त ज्ञान-विज्ञान को आत्मसात् करने की क्षमता विकसित होने लगी। इसके साथ ही विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की राजभाषा एवं राष्ट्रभाषा होने के कारण हिन्दी के प्रति अनेक देशों की रुचि बढ़ी और विशेषकर जिन देशों में भारतीय मूल के समुदाय काफ़ी संख्या में रहते हैं, उनमें सामाजिक अस्मिता, ऐतिहासिक पहचान और सांस्कृतिक कड़ी के रूप में यह अन्तर्राष्ट्रीय भाषा का स्थान ग्रहण करने लगी। इसी कारण विश्व के अन्य देशों में लगभग एक सौ विश्वविद्यालयों में हिन्दी का अध्ययन-अध्यापन और शोध-कार्य शुरू हो गया। इन्ही सब तथ्यों को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रभाषा प्रचार समिति ने यह महसूस किया कि अब समय आ गया है जबकि विश्व के हिन्दी विद्वानों, हिन्दी सेवियों एवं हिन्दी प्रेमियों का एक मंच स्थापित किया जाए जहाँ राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय संदर्भ में हिन्दी की उपलब्धियों एवं संभावनाओं पर विचार-विमर्श हो सके और यह प्रेक्षण किया जाए कि वह आज की स्थिति में मानव-सेवा का उपयोगी साधन कैसे बन सकती है। इसके साथ ही यह भी सोचा गया कि इस मंच के द्वारा हिन्दी को संयुक्त राष्ट्र संघ एवं अन्य अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में आधिकारिक भाषा के रूप में स्थान दिलाया जाए तथा अंतर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में समस्त मानव जाति की सेवा की ओर अग्रसर किया जा सके।

इसी लक्ष्य को लेकर प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन का आयोजन 10 जनवरी, 1975 को नागपुर में संपन्न हुआ था। इस ऐतिहासिक समारोह का उद्घाटन करते हुए भारत की प्रधान मंत्री, श्रीमती इन्दिरा गांधी ने कहा था कि हिन्दी विश्व की महान् भाषाओं में से है। यह करोड़ों की मातृभाषा है और करोड़ों लोग ऐसे हैं जो इसे दूसरी भाषा के रूप में पढ़ते हैं। भारत की समस्त भाषाओं के महत्व को स्वीकार करते हुए उन्होंने कहा था कि सभी भाषाएँ भारत की सांस्कृतिक पंरपरा की समान उत्तराधिकारी हैं। इस अभूतपूर्व समारोह की अध्यक्षता करते हुए मारिशस के तत्कालीन प्रधान मंत्री, सर शिवसागर रामगुलाम ने कहा था कि हिन्दी भारत की राष्ट्रभाषा तो है लेकिन हमारे लिए महत्व इस बात का है कि यह अंतर्राष्ट्रीय भाषा है। मारिशस, सूरीनाम, गुयाना, फीजी और अफ्रीका के कई देश यह मानते हैं कि भारत की राष्ट्रभाषा को अंतर्राष्ट्रीय भाषा बनाने में उनका हाथ रहा है।

प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन के भव्य समारोह में भारत के कोने-कोने से तीन हजार प्रतिनिधि और पर्यवेक्षक पधारे थे। इनके अतिरिक्त 30 अन्य देशों के लगभग 122 प्रतिनिधियों ने इस सम्मेलन में भाग लेकर और इसमें सक्रीय योगदान देकर इसे गौरव प्रदान किया था। इस सम्मेलन में भारतीय भाषाओं के प्रतिष्ठित हिन्दी साहित्यकारों का भी सम्मान और अभिनंदन किया गया था जिसका उद्देश्य यह था कि हिन्दी सभी भारतीय भाषाओं की भगिनी है और वह उन्हीं के सहयोग एवं स्नेह से आगे बढ़ सकती है। इसके अतिरिक्त हिन्दी के अंतर्राष्ट्रीय महत्व को ध्यान में रखते हुए हिन्दी के विदेशी विद्वानों का भी अभिनंदन किया गया था।

हिन्दी की कुछ मूलभूत और व्यापक समस्याओं पर वैचारिक आदान-प्रदान का मंच प्रस्तुत करने हेतु सम्मेलन की 7 विचार-गोष्ठियां को निम्नलिखित तीन विषयों के अंतर्गत विभाजित किया गया था।

  1. हिन्दी की अंतर्राष्ट्रीय स्थिति:
  2. विश्व मानव की चेतना, भारत और हिन्दी: तथा
  3. आधुनिक युग और हिन्दी: आवश्यकताएँ और उपलब्धियाँ
  • इन गोष्ठियों में वैचारिक आदान-प्रदान के पश्चातृ इस सम्मेलन में तीन प्रमुख निर्णय लिए गए:-
  1. संयुक्त राष्ट्रसंघ में हिन्दी को भी आधिकारिक भाषा के रूप में स्थान दिया जाए:
  2. वर्धा में विश्व हिन्दी विद्यापीठ की स्थापना हो: और
  3. विश्व हिन्दी सम्मेलन की उपलब्धियों को स्थायित्व प्रदान करने की दृष्टि से कोई ठोस योजना बनाई जाए।


प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन में मारिशस देश से आए प्रतिनिधि-मंडल को बल मिला, प्रेरणा मिली और दृष्टि मिली। उनके सामने यह बात फिर से उभर कर आई कि इसी अपनी भाषा और संस्कृति की रक्षा में तो उनके पूर्वजों ने अपना सर्वस्व दांव पर लगा दिया था क्योंकि उनका विचार था कि यदि भाषा बनी रही तो संस्कृति बनी रहेगी और संस्कृति बनी रही तो हमारा अस्तित्व भी बना रहेगा। भाषा तो सामाजिक अस्मिता का प्रतीक है, इसलिए इसको संजोए रखना चाहिए। अत: मारीशस के हिन्दी-प्रमियों में यह लालसा उत्पन्न हुई कि अपने छोटे से देश किंतु सुसंस्कृत देश में इस प्रकार के सम्मेलन का आयोजन किया जाए जिसमें वे विश्व के हिन्दी विद्वानों एवं हिन्दी सेवियों का दर्शन अपने देश में एक साथ कर सकें। उनके सपने द्वितीय विश्व हिन्दी सम्मेलन के रूप में साकार हुए जिसका आयोजन 28 अगस्त, 1976 को मारिशस में महात्मा गांधी संस्थान में हुआ था।

इस सम्मेलन का उद्घाटन मारिशस के तत्कालीन प्रधानमंत्री, सर शिवसागार रामगुलाम ने किया था और भारत के तत्कालीन स्वास्थ्य एवं परिवार नियोजन मंत्री, डॉ. कर्णसिंह ने इसकी अध्यक्षता की थी। इस सम्मेलन में प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन के बोधवाक्य ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ को स्वीकार किया गया था जिसके अनुसार ‘विश्व एक – परिवार एक’ की संकल्पना को बल मिला। वास्तव में हिन्दी के इतिहास में यह पहला अवसर था जब भारत से बाहर विदेश में हिन्दी के कवियों, लेखकों, मनीषियों, साहित्यकारों, पत्रकारों ने एक साथ मिल-बैठकर विचार-विमर्श किया। इसमें भारत के लगभग 500 प्रतिनिधियों ने भाग लिया था जिनमें पं. श्रीनारायण चतुर्वेदी, आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी, भगवतीचरण वर्मा, अमृतलाल नागर, उपेन्द्रनाथ, अश्क, विमल मित्र, अनंतगोपाल शेबड़े जैसे हिन्दी विद्वान् एवं साहित्यकार और हिन्दी सेवी भी थे। इसके अतिरिक्त जापान, फ्रांस, चेकोस्लोवाकिया, इटली, इंगलैंड, अमरीकी, जर्मनी आदि 20 अन्य देशों के प्रतिनिधियों ने भी इस सम्मेलन में सक्रिय रूप में भाग लिया था। इस सम्मेलन के अवसर पर भारत तथा अन्य देशों से आए हुए प्रतिनिधियों के लिए आतिथ्य सत्कार की जो व्यवस्था की गई थी, उसकी समवेत-स्वर में मुक्तकंठ से प्रशंसा हुई थी।

  • इस सम्मेलन में चार विचार-सत्रों का आयोजन किया गया था जिनमें निम्नलिखित चार प्रमुख विषयों पर चर्चा हुई:-
  1. हिन्दी की अंतर्राष्ट्रीय स्थिति, शैली और स्वरूप;
  2. जन-संचार के साधन और हिन्दी;
  3. स्वैच्छिक संस्थाओं की भूमिका और
  4. विश्व में हिन्दी के पठन-पाठन की समस्याएँ।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

बाहरी कड़ियाँ

संबंधित लेख

तृतीय विश्व हिन्दी सम्मेलन 1983
क्रमांक लेख का नाम लेखक
हिन्दी और सामासिक संस्कृति
1. हिन्दी साहित्य और सामासिक संस्कृति डॉ. कर्ण राजशेषगिरि राव
2. हिन्दी साहित्य में सामासिक संस्कृति की सर्जनात्मक अभिव्यक्ति प्रो. केसरीकुमार
3. हिन्दी साहित्य और सामासिक संस्कृति डॉ. चंद्रकांत बांदिवडेकर
4. हिन्दी की सामासिक एवं सांस्कृतिक एकता डॉ. जगदीश गुप्त
5. राजभाषा: कार्याचरण और सामासिक संस्कृति डॉ. एन.एस. दक्षिणामूर्ति
6. हिन्दी की अखिल भारतीयता का इतिहास प्रो. दिनेश्वर प्रसाद
7. हिन्दी साहित्य में सामासिक संस्कृति डॉ. मुंशीराम शर्मा
8. भारतीय व्यक्तित्व के संश्लेष की भाषा डॉ. रघुवंश
9. देश की सामासिक संस्कृति की अभिव्यक्ति में हिन्दी का योगदान डॉ. राजकिशोर पांडेय
10. सांस्कृतिक समन्वय की प्रक्रिया और हिन्दी साहित्य श्री राजेश्वर गंगवार
11. हिन्दी साहित्य में सामासिक संस्कृति के तत्त्व डॉ. शिवनंदन प्रसाद
12. हिन्दी:सामासिक संस्कृति की संवाहिका श्री शिवसागर मिश्र
13. भारत की सामासिक संस्कृृति और हिन्दी का विकास डॉ. हरदेव बाहरी
हिन्दी का विकासशील स्वरूप
14. हिन्दी का विकासशील स्वरूप डॉ. आनंदप्रकाश दीक्षित
15. हिन्दी के विकास में भोजपुरी का योगदान डॉ. उदयनारायण तिवारी
16. हिन्दी का विकासशील स्वरूप (शब्दावली के संदर्भ में) डॉ. कैलाशचंद्र भाटिया
17. मानक भाषा की संकल्पना और हिन्दी डॉ. कृष्णकुमार गोस्वामी
18. राजभाषा के रूप में हिन्दी का विकास, महत्त्व तथा प्रकाश की दिशाएँ श्री जयनारायण तिवारी
19. सांस्कृतिक भाषा के रूप में हिन्दी का विकास डॉ. त्रिलोचन पांडेय
20. हिन्दी का सरलीकरण आचार्य देवेंद्रनाथ शर्मा
21. प्रशासनिक हिन्दी का विकास डॉ. नारायणदत्त पालीवाल
22. जन की विकासशील भाषा हिन्दी श्री भागवत झा आज़ाद
23. भारत की भाषिक एकता: परंपरा और हिन्दी प्रो. माणिक गोविंद चतुर्वेदी
24. हिन्दी भाषा और राष्ट्रीय एकीकरण प्रो. रविन्द्रनाथ श्रीवास्तव
25. हिन्दी की संवैधानिक स्थिति और उसका विकासशील स्वरूप प्रो. विजयेन्द्र स्नातक
देवनागरी लिपि की भूमिका
26. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संदर्भ में देवनागरी श्री जीवन नायक
27. देवनागरी प्रो. देवीशंकर द्विवेदी
28. हिन्दी में लेखन संबंधी एकरूपता की समस्या प्रो. प. बा. जैन
29. देवनागरी लिपि की भूमिका डॉ. बाबूराम सक्सेना
30. देवनागरी लिपि (कश्मीरी भाषा के संदर्भ में) डॉ. मोहनलाल सर
31. राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संदर्भ में देवनागरी लिपि पं. रामेश्वरदयाल दुबे
विदेशों में हिन्दी
32. विश्व की हिन्दी पत्र-पत्रिकाएँ डॉ. कामता कमलेश
33. विदेशों में हिन्दी:प्रचार-प्रसार और स्थिति के कुछ पहलू प्रो. प्रेमस्वरूप गुप्त
34. हिन्दी का एक अपनाया-सा क्षेत्र: संयुक्त राज्य डॉ. आर. एस. मेग्रेगर
35. हिन्दी भाषा की भूमिका : विश्व के संदर्भ में श्री राजेन्द्र अवस्थी
36. मारिशस का हिन्दी साहित्य डॉ. लता
37. हिन्दी की भावी अंतर्राष्ट्रीय भूमिका डॉ. ब्रजेश्वर वर्मा
38. अंतर्राष्ट्रीय संदर्भ में हिन्दी प्रो. सिद्धेश्वर प्रसाद
39. नेपाल में हिन्दी और हिन्दी साहित्य श्री सूर्यनाथ गोप
विविधा
40. तुलनात्मक भारतीय साहित्य एवं पद्धति विज्ञान का प्रश्न डॉ. इंद्रनाथ चौधुरी
41. भारत की भाषा समस्या और हिन्दी डॉ. कुमार विमल
42. भारत की राजभाषा नीति श्री कृष्णकुमार श्रीवास्तव
43. विदेश दूरसंचार सेवा श्री के.सी. कटियार
44. कश्मीर में हिन्दी : स्थिति और संभावनाएँ प्रो. चमनलाल सप्रू
45. भारत की राजभाषा नीति और उसका कार्यान्वयन श्री देवेंद्रचरण मिश्र
46. भाषायी समस्या : एक राष्ट्रीय समाधान श्री नर्मदेश्वर चतुर्वेदी
47. संस्कृत-हिन्दी काव्यशास्त्र में उपमा की सर्वालंकारबीजता का विचार डॉ. महेन्द्र मधुकर
48. द्वितीय विश्व हिन्दी सम्मेलन : निर्णय और क्रियान्वयन श्री राजमणि तिवारी
49. विश्व की प्रमुख भाषाओं में हिन्दी का स्थान डॉ. रामजीलाल जांगिड
50. भारतीय आदिवासियों की मातृभाषा तथा हिन्दी से इनका सामीप्य डॉ. लक्ष्मणप्रसाद सिन्हा
51. मैं लेखक नहीं हूँ श्री विमल मित्र
52. लोकज्ञता सर्वज्ञता (लोकवार्त्ता विज्ञान के संदर्भ में) डॉ. हरद्वारीलाल शर्मा
53. देश की एकता का मूल: हमारी राष्ट्रभाषा श्री क्षेमचंद ‘सुमन’
विदेशी संदर्भ
54. मारिशस: सागर के पार लघु भारत श्री एस. भुवनेश्वर
55. अमरीका में हिन्दी -डॉ. केरीन शोमर
56. लीपज़िंग विश्वविद्यालय में हिन्दी डॉ. (श्रीमती) मार्गेट गात्स्लाफ़
57. जर्मनी संघीय गणराज्य में हिन्दी डॉ. लोठार लुत्से
58. सूरीनाम देश और हिन्दी श्री सूर्यप्रसाद बीरे
59. हिन्दी का अंतर्राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य श्री बच्चूप्रसाद सिंह
स्वैच्छिक संस्था संदर्भ
60. हिन्दी की स्वैच्छिक संस्थाएँ श्री शंकरराव लोंढे
61. राष्ट्रीय प्रचार समिति, वर्धा श्री शंकरराव लोंढे
सम्मेलन संदर्भ
62. प्रथम और द्वितीय विश्व हिन्दी सम्मेलन: उद्देश्य एवं उपलब्धियाँ श्री मधुकरराव चौधरी
स्मृति-श्रद्धांजलि
63. स्वर्गीय भारतीय साहित्यकारों को स्मृति-श्रद्धांजलि डॉ. प्रभाकर माचवे

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=प्रथम_और_द्वितीय_विश्व_हिन्दी_सम्मेलन:_उद्देश्य_एवं_उपलब्धियाँ_-मधुकरराव_चौधरी&oldid=601248" से लिया गया