भारतकोश के संस्थापक/संपादक के फ़ेसबुक लाइव के लिए यहाँ क्लिक करें।

पीयूष गोयल (कलाकार)  

पीयूष गोयल के कथन

  • भगवान श्रीकृष्ण, अर्जुन के ही सारथी नही थे वे तो पूरे विश्व के सारथी हैं, फिर डर किसका।
  • वर्तमान की आवश्यकता भविष्य की निधि हैं।
  • किसी भी कार्य के पर्याय बन जाओ प्रसिद्धि अवश्य मिल जाएगी।
  • जीवन में लक्ष्य ज़रूर निर्धारित करो लक्ष्य मिलने पर आकर बड़ा कर दो।
  • शरीर में जीतने छेद हैं सबसे गंदगी ही निकलती हैं इसमें मुँह का क्या दोष?
  • प्रलोभन व्यक्ति को विचलित करता है।






पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://amp.bharatdiscovery.org/w/index.php?title=पीयूष_गोयल_(कलाकार)&oldid=607759" से लिया गया